Sanskrit Department

संस्कृत विभाग

(संक्षिप्त इतिहास)

१९५५ में जब महाराजा पाटेश्वरी प्रसाद सिंह ने इस तराई अंचल की जनता को उच्च शिक्षा प्रदान करने की इच्छा से अपनी पूज्या माता महारानी लाल कुंवरि की स्मृति को चिरस्थाई बनाने के लिए महारानी लाल कुंवरि महाविद्यालय का शुभारम्भ कराया तो कला-संकाय में जो विषय खोले गए, उनमें संस्कृत भी था I उस समय डॉ० चन्द्रहंस पाठक संस्कृत विभाग के अध्यक्ष नियुक्त किये गए I पाठक जी उच्चकोटि के विद्वान् थेI कुछ समय पश्चात् उनके अन्यत्र चले जाने पर डॉ० उमाशंकर श्रीवास्तव ने संस्कृत विभागाध्यक्ष का पद-भार ग्रहण कियाI अत्यन्त मेधावी डॉ० श्रीवास्तव के लोकसेवा आयोग द्वारा पुलिस सेवा में चयनित कर लिए जाने से रिक्त हुए पद पर डॉ० उमाशंकर शुक्ल १९६४ में प्रतिष्ठित हुए I  परास्नातक कक्षाओं का प्रारम्भ १९७१ में हुआ जिसके प्रथम रीडर एवं विभागाध्यक्ष डॉ० उमाशंकर शुक्ल बनेंI स्नातकोत्तर कक्षाएं खुलने के साथ ही विभाग में शिक्षकों की संख्या में भी वृद्धि हुई और  डॉ० रामचंद्रदेव पाण्डेय, डॉ० चंद्रशेखर त्रिपाठी तथा श्री गयाराम पाण्डेय ने प्रवक्ता पद पर नियुक्ति प्राप्त की I कुछ समय पश्चात् डॉ० रामचन्द्र  देव पाण्डेय अपने गृह जनपद मीरजापुर के अन्य प्रतिष्ठित महाविद्यालय में नियुक्ति प्राप्त कर चले गए I १९७४-७५ में विभाग में तीन नए शिक्षकों श्री माधवराज द्विवेदी, श्री कृपाराम त्रिपाठी, और डॉ० लालबाबू सिंह ने नियुक्ति प्राप्त की, और विभाग में अध्यक्ष सहित कुल शिक्षकों की संख्या ६ (छ:) हो गईI १९७८ से विभाग में शोध की गतिविधियाँ प्रारम्भ हुई I  श्री गयाराम पाण्डेय एवं श्री कृपाराम त्रिपाठी के शोध-कार्य के लिए तीन वर्ष का अध्ययन-अवकाश लेने पर डॉ० प्रभुनाथ द्विवेदी और डॉ० सत्यनारायण पाण्डेय की अवकाश रिक्ति पर नियुक्ति हुई I डॉ० गयाराम पाण्डेय जब पुणे से पी-एच०डी० की उपाधि प्राप्त करके वापस आये तो कुछ समय के पश्चात् काशी विद्यापीठ वाराणसी  में रीडर पद पर नियुक्त  होकर वहां चले गए I उनके स्थान पर स्नातक एवं स्नातकोत्तर कक्षाओं में स्वर्णपदक प्राप्त करने वाली प्रमिला तिवारी की नियुक्ति १९८३ में हुई I

डॉ० सत्यनारायण पाण्डेय (डॉ० कृपाराम त्रिपाठी के वापस आने पर) आगरा कॉलेज, आगरा में नियुक्ति प्राप्त करके चले गए I १९९४ में डॉ० उमाशंकर शुक्ल के अवकाश ग्रहण करने पर डॉ० चन्द्रशेखर त्रिपाठी ने विभागाध्यक्ष का दायित्व ग्रहण किया I २००३ में उनके  अवकाश ग्रहण करने पर डॉ० माधवराज द्विवेदी विभागाध्यक्ष बने I ३० जून २०१३ को उनके अवकाश ग्रहण करने पर कुछ दिनों के लिए डॉ० कृपाराम त्रिपाठी विभागाध्यक्ष बने I ०३ अगस्त २०१३ को डॉ० कृपाराम त्रिपाठी के अवकाश ग्रहण करने पर डॉ० (श्रीमती) प्रमिला तिवारी ने विभागाध्यक्ष का पद-भार ग्रहण किया I

विभाग में अध्ययन-अध्यापन के साथ ही शोध का स्तर भी सर्वदा उच्च स्तरीय रहा है, जिसका प्रमाण यह है कि  डॉ० माधवराज द्विवेदी, डॉ० कृपाराम त्रिपाठी, डॉ० प्रमिला तिवारी और डॉ० ए०पी० वर्मा ने यहीं अध्ययन करके अपने ही विभाग में शिक्षक के रूप में सेवा करने का अवसर प्राप्त किया I

विश्वविद्यालय की विभिन्न समितियों में सर्वदा इस विभाग के शिक्षकों का प्रतिनिधित्व रहा  है I

सम्प्रति विभागाध्यक्ष डॉ० प्रमिला तिवारी सिद्धार्थ विश्वविद्यालय, कपिलवस्तु, सिद्धार्थनगर में पाठ्य समिति (स्नातक एवं स्नातकोत्तर) की संयोजक होने के साथ ही विद्या परिषद् एवं कार्य परिषद् की भी सदस्य हैं I

विभाग के प्रायः सभी शिक्षक शोध कार्य के निर्देशन के साथ राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलनों में सहभागिता करते रहें हैं I विभाग में लगभग चार दर्जन छात्र एवं छात्राएं पी-एच०डी० की उपाधि प्राप्त कर चुके हैं I पांच छात्राएं एवं एक छात्र ये छ: लोग डॉ० प्रमिला तिवारी के निर्देशन में अवध विश्वविद्यालय से  पी-एच०डी० की उपाधि प्राप्त कर चुके हैं, यह महिलाओं के लिए गर्व का विषय है I

विभाग ने लेखन कार्य के क्षेत्र में भी अपनी गरिमामयी उपस्थिति दर्ज करायी है जिनमें डॉ० कृपाराम त्रिपाठी ने अनेक काव्य-कृतियों की सर्जना की है I डॉ० माधवराज द्विवेदी तथा डॉ० प्रमिला तिवारी ने काव्यशास्त्र सम्बन्धी पुस्तकें लिखकर शोधार्थी छात्रों का मार्ग प्रशस्त किया है I

विभाग से शिक्षा प्राप्त करने के पश्चात् छात्र एवं छात्राएं विभिन्न प्रतिष्ठित पदों पर नियुक्ति पाते रहें हैं I

संस्कृत विभाग में विद्वानों द्वारा व्याख्यान प्रायः प्रतिवर्ष कराया जाता है I इस क्रम में यहाँ दी०द०उ० गोरखपुर विश्वविद्यालय के संस्कृत विभागाध्यक्षद्वय (डॉ० मुरली मनोहर पाठक तथा डॉ० छायारानी) यहाँ रिसोर्स पर्सन के रूप में पधार चुके हैं I

pramilatiwari
  • Name : Prof. (Smt.) Pramila Tiwari
  • Designation : Associate Professor , Head of the Deptt
  • Mobile No. : 9839296846
  • E-Mail : dr.pramila181161@gmail.com
pujamishra
bhavnasingh
  • Name : Smt. Bhavna Singh
  • Designation : Asst. Professor
  • Mobile No. : 8077349027 / 7579579790
  • E-Mail : 94sadhanasingh@gmail.com
avaninsdradixit
  • Name : Dr. Avanindra Kumar Dixit
  • Designation : Assistant Professor
  • Mobile No. : 9170970000
  • E-Mail : drdixitak75@gmail.com
Sr.No. Course View
1. Sanskrit B.A. Syllabus View
2. Sanskrit M.A. Syllabus View
Sr.No. Description View
1  Time Table 2019-20 – Sanskrit View

QUICK LINKS

dream league soccer for android

|

world cricket championship 2

|

Clash of Clans APK for Android